दस प्रशन जीव विज्ञान-कक्षा 11-प्राणी जगत-4




style="display:inline-block;width:300px;height:250px"
data-ad-client="ca-pub-0196477191059603"
data-ad-slot="6010343128">


प्रारम्भिक अवस्था में ही मनुष्य ने पौधों एवं जन्तुओं को लाभदायक या हानिकारक,घातक या अघातक अनेक रूपों में वर्गीकृत किया था। इसी प्रकार वनस्पति जगत को जन्तुओं से सेल्यूलोज,कोशिका भित्ति, पर्ण हरित एवं पोषण के प्रकार पर विभेदित किया गया। वर्गिकीविज्ञों जन्तुओं के कुछ विशिष्ट लक्षणों को आधार मानकर वर्गीकृत किया था, जैसे अरस्तु ने सभी जन्तुओं […]

दस प्रशन विज्ञान-कक्षा 11- जीव जगत भाग 1




style="display:inline-block;width:300px;height:250px"
data-ad-client="ca-pub-0196477191059603"
data-ad-slot="6010343128">


जीव जगत के समुचित अध्ययन आवश्यक है . इनमे  विभिन्न गुणधर्म एवं विशेषताओं वाले जीव अलग-अलग श्रेणियों में रखे गये है। इस तरह से जीवों एवं पादपों के वर्गीकरण कोवर्गिकी या वर्गीकरण विज्ञान कहते हैं।  टैक्सोनॉमी (Taxonomy) तथा सिस्टेमैटिक्स (Systematics) अंग्रेजी में वर्गिकी के लिये दो शब्द हैं । दस प्रशन  विज्ञान-कक्षा 11- जीव जगत भाग 1